Sunday, October 2, 2016

वो अभी भी गुब्बारों और कबूतर में अटके हुए हैं....


No comments:

Post a Comment