Thursday, August 6, 2015

नसीब अपना-अपना...


3 comments:

  1. अौपचरिकता गरीबों के साथ निभायी जाती हैं

    ReplyDelete
  2. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  3. दिनांक 010/08/2015 को आप की इस रचना का लिंक होगा...
    चर्चा मंच[कुलदीप ठाकुर द्वारा प्रस्तुत चर्चा] पर...
    आप भी आयेगा....
    धन्यवाद...

    ReplyDelete