Tuesday, January 27, 2009

लड़कियों को दौड़ा-दौड़ा कर पीटा : - एक कार्टून


7 comments:

  1. दौड़ाना कब से जुल्‍म हो गया

    यह नहीं समझे कि

    दौड़ेंगे, भागेंगे तो

    कोई पदक भी पा लेंगे।


    पर तब सेना को

    जुल्‍म करने के

    अधिकार नहीं थे

    सारे अधिकार
    आप ही थे।

    ReplyDelete
  2. रावण तो इन सबकी तुलना में देवता था।
    घुघूती बासूती

    ReplyDelete
  3. एसा करने का अधिकार और एसी नीचता सिर्फ कठमुल्लओं और तालिबानी धर्मान्धों को शोभा देती हैं, हिन्दू धर्म तो सहिष्णुता का धर्म है.

    मंगलौर में जो हुआ वह गलत है और फिर कहीं हिन्दुओं द्वारा एसा नहीं होना चाहिये

    ReplyDelete
  4. तुन्हारी तो रावण सेना थी न?

    ये "राम सेना" है.. तुम्से २१..

    रंजन

    ReplyDelete
  5. ये हैं कलयुग के राम जिनमें शायद रावण की आत्मा समा गई है.

    ReplyDelete